Faint And Fairy Colors of Life !

यूँ तो रंग बहुतेरे ए जिंदगी ..कुछ दिखा रंग कुछ छिपा रंग ! कुछ रंगों ने रंग दिया हमें..कुछ रंगों ने ठग लिया हमें ! कुछ रंग थे जैसे एक Read More …

लाल स्याही … A Treasure !

क्योँ अलग विजाती से बैठे,आँगन के उस पार अकेले,ढोल नगारे कानों से टकरा कर,वहीँ निस्तब्ध से हो चले,गुमसुम से बस तकते उस भीड़ को,हिस्सा जो नहीं उस उत्सव का मैं Read More …