Poetry

Social Media Criticism – एक विचार

एक विचार : सोशल मीडिया की आलोचना सोशल मीडिया की आलोचना करना वर्तमान संदर्भ में सर्वथा उचित नही है !हर पक्ष के दो पहलु होते, परमाणु बम सी विध्वंशक शक्ति का उपयोग जापान के ऊपर विध्वंश के लिये हुआ, उसी जापान ने इसी परमाणु के उपयोग से विकास की परिभाषा लिख दी ! विज्ञान तो हमारे […]

Poetry

ये रात …? – A Night

रात .. बात नही बस सुर्ख काले अंधेरों और दो चार दमकती चाँद तारों की…रात .. बात नही अकेली अँधेरी गलियों और सुनसान सड़कों से गुजर जाने की .. रात .. हर रोज एक कोशिश होती, किसी की इसे जगमगाने की !रात .. एक दर्द बिछड़ते सपने को, खोने की कश्मशाने सी ! रात .. […]