Poetry

अल्ल्हर बातें !

एक अल्ल्हर बातें है जैसे, सपने का पलना हो जैसे !अठखेली हवाओं जैसी !बावरी मन चंचल हो जैसी ! आशाओं की डोरी सी !बातें करती पहेली सी, एक तस्वीर …. ख्वाबो में एक तस्वीर सी बनती,हया धड़कन के पहलु में छुपती,झुकी नजर में शर्माती हँसती,नाजुक मन आँखों में सिमटी ! एक ख्वाब …कभी इन्तेजार में […]

Poetry

जिंदगी आखिर जिंदगी ही है..

एक संगीत कभी सुमधुर तानो भरा,कभी अनसुना विस्मित रागों सना ! एक हँसी कभी खुशी लहरों भरा,कभी व्यंग्य के उपहासो से जना ! एक क्रंदन कभी नयनों में भरा !कभी रुदन आद्र मन में बना ! एक ख्वाब कभी पलकों में भरा,कभी वह पतझर पंछी बन उड़ा ! सवाल ख़ामोशी के साया में परा,राहों में […]