Monthly Archives: May 2010

अब मुझे इन्तेजार कहाँ ! – A Poem

अब मुझे कोई इन्तेजार कहाँ !
तेरी मायूसी का ऐतबार कहाँ !

यूँ भागे है किस तरफ तब से ,
की अब हमे चैन कहाँ !

पिघल जाये ये दिल आंसुओं  से ,
पर उन्हें रोकने वाले हाथ कहाँ !

क्यों रुक जाये हम जाने से , 
मुझे रोकने वाले वो आवाज कहाँ ! 

अब मुझे कोई इन्तेजार कहाँ…

रचना : सुजीत कुमार लक्की