सोशल मीडिया का शोर और में

रात का सन्नाटा ऊँची अट्टालिका को चीर रहा था,विचलित मन रात को निहार रहा था की तभी,सोशल मीडिया के शोर ने खीचा लाया मुझे ,कैसी ये छद्म दुनिया रच डाली Read More …